Sahara India Vs Paytm : सहारा इंडिया मालिक सुब्रता रॉय की तरह फसा पेटीएम के मालिक का केस

सहारा इंडिया पर जब भी बात आती है तो सेबी का नाम सबसे पहले निकाल कर आता है क्योंकि सहारा पर सबसे ज्यादा परेशानी अगर कुछ आई है तो वह सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड आफ इंडिया (SEBI) के तौर पर आई है क्योंकि कंपनी पिछले काफी लंबे दौर से काफी अच्छा प्रदर्शन कर रही थी वहीं कंपनी को सबसे पहला झटका सन 2008 में लगा था जब कंपनी को रिजर्व बैंक आफ इंडिया ने एक बड़ा झटका देते हुए अपना लाइसेंस निरस्त करने का आदेश दिया था.

2
Sahara India Vs Paytm payments bank

डेस्क रिपोर्ट, बिजनिस : भारत में लगातार Fintech और Non Financial कंपनी एका – एक बंद होती जा रही है जिनकी प्रमुख वजह कस्टमर को बेहतर सर्विस न देने के साथ बैंकिंग रेगुलेशन के नियमो का घोर उल्लघन है जहा पर एक समय जून 2008 में सहारा इंडिया फाइनेंसियल कारपोरेशन लिमिटेड (SIFCL) को जिस तरह से नॉन फाइनेंसियल बैंकिंग (NBFC) के आधार पर रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) ने कंपनी का लाइसेंस निरस्त किया था उसी तरह का हाल आज पेटीएम पेमेंट बैंक लिमिटेड (PPBL) का हो रहा है।

जब सहारा इंडिया परिवार के मालिक सुब्रत रॉय सहारा और पेटीएम समूह के मालिक विजय शेखर शर्मा के ऊपर हमारी टीम रिसर्च कर रही थी तो हमको इस मामले को लेकर दो संदिग्ध खबरे पता चली है तो चलिए आपको भी बताते है ऐसी दो स्थिति जब पेटीएम का मालिक का हाल बिलकुल सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय की तरह प्रतीत हो गया है।



आरबीआई ने पेटीएम का बैंकिंग लाइसेंस रद्द कर दिया है

जानकारी के अनुसार पेटीएम पेमेंट्स बैंक को लेकर रिजर्व बैंक आफ इंडिया की ओर से जारी एक अध्यादेश के मुताबिक पेटीएम पेमेंट्स बैंक को कोई भी नए ग्राहक से पैसा निवेश कराने से रोक दिया गया है, हालांकि कंपनी की एक मार्केट रिपोर्ट जारी हुई है जिसमें कंपनी के शेयर भाव काफी ज्यादा निचले स्तर पर पाए गए हैं, इसी के साथ कंपनी के नए शेयर खरीदने के लिए भी निवेशक डर रहे हैं क्योंकि इस समय काफी अच्छी स्थिति में नहीं है आपको बता दें कि पेटीएम ने यह जाहिर कर दिया है कि उसकी यूपीआई सर्विस 29 फरवरी 2024 तक सही रूप से संचालित रहेगी हालांकि रिजर्व बैंक आफ इंडिया ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक के निवेशकों को बताया है कि वह 29 फरवरी के बाद भी अपने पैसे को पेटीएम पेमेंट्स बैंक से निकाल सकते हैं इसी के साथ कंपनी को भी निर्देशित किया गया है कि वह जल्द से जल्द लोगों का पैसा उनको लौटा दे।

Read More : paytm payment bank closed: क्या बंद होने वाला है पेटीएम आ रही मामले पर बड़ी खबर



यह है पेटीएम के मालिक

paytmआपको बता दे की पेटीएम पेमेंट्स बैंक के मालिक का नाम विजय शेखर शर्मा है जिनका जन्म 7 जून 1978 को अलीगढ में हुआ था वहीं विजय शेखर शर्मा भारतीय आईटी इंडस्ट्री के एक जाने माने बिजनेसमैन है जो की one97 कम्युनिकेशन के अध्यक्ष है वहीं उन्होंने one97 कम्युनिकेशन की स्थापना सन 1997 में की थी जिसके बाद उन्होंने 2010 में पेटीएम की शुरुआत बतौर डीटीएच रिचार्ज सेवा के साथ शुरू की थी आपको बता दे कि इन्होंने अपनी शिक्षा दिल्ली के इंजीनियरिंग कॉलेज से पूर्ण की है।

Read More : Sahara India News 2024 : स्वप्ना रॉय सहारा की जमानत याचिका ख़ारिज कराने तीस हजारी कोर्ट पंहुचा यह संगठन, जताया भारी बिरोध



सहारा की तरह सपा से जुड़ा है कनेक्शन

इस मामले पर रिसर्च करते हुए हम को मालूम चला कि 2017 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मिलने के लिए विजय शेखर शर्मा एक ऑटो रिक्शा के जरिए उनके निज निवास पर जा रहे थे उस समय काफी ज्यादा जाम की स्थिति निर्मित हो गई थी जिसके बाद जैसे तैसे उस ऑटो ड्राइवर ने शर्मा को समय पर अखिलेश के घर तक पहुंचाया था जिसके बाद उस ड्राइवर की मुलाकात उस दौर के सीएम रहे अखिलेश यादव से हुई थी वही अखिलेश यादव ने उस ड्राइवर को ₹6000 समेत एक ई-रिक्शा प्रदान की थी जिसका ट्वीट उन्होंने उनके ट्विटर हैंडल पर भी किया था वहीं दैनिक भास्कर की एक रिपोर्ट के मुताबिक इस रिपोर्ट को सिद्ध किया गया है।

आपको बता दें कि सहारा की भी समाजवादी पार्टी में एक अलग छवि थी क्योंकि सुब्रत राय मुलायम सिंह यादव के खास आदमी माने जाते थे सहारा का कोई मेगा इवेंट हुआ करता था तो उसमें प्रमुख रूप से मुलायम सिंह यादव और उनकी पूरी फैमिली सम्मिलित हुआ करती थी सहारा प्रमुख की तबीयत बिगड़ती थी तो मुलायम सिंह पहले व्यक्ति हुआ करते थे जो उनसे मुलाकात करने आया करते थे वहीं जब मेदांता अस्पताल में मुलायम सिंह यादव अपने अंतिम समय में एडमिट थे उस समय भी सहारा प्रमुख उनसे मिलने पहुंचे थे जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर एक बडे समय तक चर्चा का बिषय बना हुआ था।

Read More : सहारा इंडिया निवेशक फरबरी में निकालेंगे रथ यात्रा, सहारा इंडिया लेटेस्ट न्यूज़ 2024 today

जब कई फाइनेंशियल एक्सपर्ट से इस मामले पर बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि यह एक पॉलीटिकल एजेंडा भी हो सकता है जिसमें लगातार भारतीय जनता पार्टी एक तरफ सभी विपक्षी पार्टियों पर हमलावर है वहीं इस स्थिति को देखते हुए यही प्रतीत हो रहा है कि भारतीय जनता पार्टी ने समाजवादी पार्टी और अन्य पार्टियों के संबंधित कंपनियों पर लगातार अपना आक्रोश जमाया हुआ है जिसमें एका – एक यह कंपनियां लगातार बंद होती जा रही है।




सेबी से पंगा लेना सहारा को बहुत महंगा पड़ा था

सहारा इंडिया पर जब भी बात आती है तो सेबी का नाम सबसे पहले निकाल कर आता है क्योंकि सहारा पर सबसे ज्यादा परेशानी अगर कुछ आई है तो वह सिक्योरिटीज एंड एक्सचेंज बोर्ड आफ इंडिया (SEBI) के तौर पर आई है क्योंकि कंपनी पिछले काफी लंबे दौर से काफी अच्छा प्रदर्शन कर रही थी वहीं कंपनी को सबसे पहला झटका सन 2008 में लगा था जब कंपनी को रिजर्व बैंक आफ इंडिया ने एक बड़ा झटका देते हुए अपना लाइसेंस निरस्त करने का आदेश दिया था इसके बाद कंपनी की बागडोर 2010 से ही बिगड़ना शुरू हो गई थी क्योंकि सेबी ने प्रमुख रूप से सहारा की दो बड़ी कंपनियों पर नजर गड़ाना शुरू कर दिया था क्योंकि कंपनियों की हेरा फेरी की खबरें लगातार सेबी के मुख्यालय पर पहुंच रही थी इसके बाद सेबी ने एक बड़ी कार्रवाई करते हुए सहारा प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगाते हुए इस मामले को देश की अदालत में खींच दिया था इसके बाद कई सालों के लिए सुब्रत राय सहारा को तिहाड़ जेल का रास्ता भी काटना पड़ा था और तब से ही आज तक सहारा इंडिया परिवार दोबारा संभल नहीं पाया है और ऐसे ही खास स्थिति आज पेटीएम पेमेंट बैंक के साथ में देखने के लिए मिल रही है अगर यही स्थिति निर्मित होती है तो पेटीएम दोबारा भारत में ब्यबसाय करने की स्थिति में नहीं रहेगा जिसमें कई लाखों इन्वेस्टर्स का बड़ा नुकसान होने की आशंका है।



2 COMMENTS

  1. 📰 सहारा इंडिया के मालिक सुब्रता रॉय की तरह, पेटीएम के मालिक का भी केस! सेबी की नजर में। 🏛️🔍 #SaharaIndia #Paytm #SEBI #LegalCase

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here