Sahara India News 2024 : स्वप्ना रॉय सहारा की जमानत याचिका ख़ारिज कराने तीस हजारी कोर्ट पंहुचा यह संगठन, जताया भारी बिरोध

अभय जी ने कहा की संगठन लगातार निवेशकों को उनकी पाई - पाई का भुगतान दिलाने के लिए कठोर तरीके से प्रयासरत है जिसमे वह आंदोलन के साथ लीगल तौर पर भी लड़ाई लड़ने की तैयारी कर रहे है आपको बता दे की इस जमानत याचिका का बिरोध करने के बाद संगठन ने आज जंतर मंतर पर भी अपने भुगतान की मांग सरकार और सहारा प्रबंधन के सामने रखी

2
Sahara India News 2024, swapna roy sahara chairmen in difficult situations, check news here
Sahara India News 2024: This organization reached Tis Hazari Court to reject the bail plea of Swapna Roy Sahara, expressed strong protest.

Sahara India News 2024 : सहारा इंडिया परिवार की चैयरमेन श्रीमति स्वप्ना रॉय (swapna roy) समेत कंपनी के पैराबैंकिंग अधिकारी ओपी श्रीवास्तव (op shrivastava) के खिलाफ धोखाधड़ी का एक मामला दिल्ली में दर्ज हुआ था जिसमे एफआईआर करता का आरोप था की उसने सहारा इंडिया (sahara india) की सहकारी समितियों में अपना पैसा जमा किया था परंतु समय अवधि पूर्ण होने के बाद भी सहारा इंडिया ने उस निवेशक को उसका पैसा नहीं लौटाया जिसके बाद निवेशक ने कंपनी के बरिष्ट अधिकारी एवं प्रबंधकर्ताओ के खिलाफ एफआईआर क्रमांक 0712/2022 दर्ज कराई थी जिसमे आज तीस हजारी कोर्ट नई दिल्ली में जमानत याचिका पर सुनबाई थी।

Read More : Adarsh Credit Refund Update : मोदी सरकार से Refund पर बड़ा अपडेट, अब मिलेगा पैसा बापस



जमानत याचिका पर जताया बिरोध

सहारा इंडिया के बंचित एवं पीड़ित निवेशकों और अभिकर्ताओं की लड़ाई लड़ रहे सयुक्त आल इंडिया संघर्ष न्याय मोर्चा के राष्ट्रिय अध्यक्ष श्री शुक्ला ने कहा की निवेशकों का पैसा इस तरीके से सहारा और उनके अधिकारियो को डकारने नहीं दिया जायेगा, अभय जी ने कहा की संगठन लगातार निवेशकों को उनकी पाई – पाई का भुगतान दिलाने के लिए कठोर तरीके से प्रयासरत है जिसमे वह आंदोलन के साथ लीगल तौर पर भी लड़ाई लड़ने की तैयारी कर रहे है आपको बता दे की इस जमानत याचिका का बिरोध करने के बाद संगठन ने आज जंतर मंतर पर भी अपने भुगतान की मांग सरकार और सहारा प्रबंधन के सामने रखी।



सुनबाई आगे बढ़ी

मामले को लेकर ताजा जानकारी के मुताबिक यह जमानत याचिका की सुनवाई की तारीख कोर्ट द्वारा आगे निर्धारित कर दी गई है क्योकि एप्लिकेंट के और से उनके बकील कल सुनवाई के लिए कोर्ट रूम में नहीं पहुंच पाए थे।